Whatsapp Call now

रूठे हुए साथी को मनायें इस अचूक टोटके से

Author: Pandit Ravi Kant Shastri Posted on: August, 29, 2019

रूठे हुए प्यार को मानाने के लिए आपको अपने प्यार को यही बोलना पड़ेगा की जो हुआ सब मेरी गलती थी इसीलिए प्लीज जो पुरानी बात हुई है उन सब बातो को भूल जाओ| ऐसा कहने से उन पर मानसिक इफ़ेक्ट पड़ेगा और वो आपकी बातों को सुन कर पुरानी बातो को भूलने की कोशिश करेंगी|

जाने-अनजाने में हमसे हमारा प्यार रूठ जाता है। छोटी सी अनबन भी बहुत बड़ी हो जाती है। वैसे झगड़े कहाँ नहीं होते हैं पर वक़्त पर किसी को ना मनाओ तो बात हाथ से निकल भी सकती है. अक्‍सर प्रेमी जोड़ों को एक-दूसरे से यही शिकायत रहती है। अगर आपका साथी आपसे रूठ गया है तो यह कतई जरूरी नहीं है कि आपको उसे मनाने में कड़ी मशक्‍कत ही करनी पड़े। यह काम एकदम आसानी से भी हो सकता है, बस जरूरत होती है थोड़ी समझदारी की। यह ऐसा नाजुक वक्‍त होता है, जब कोई संबंध टूट भी सकता है या उस रिश्‍ते में और मजबूती भी आ सकती है। इसलिए जल्‍दबाजी में कोई कदम न उठाएं। कोई निर्णय लेने से पूर्व काफी सोच-विचार लें। अगर संभव हो तो नजदीकी मित्रों से सलाह भी ले सकते हैं।

जब इंसान किसी के साथ रिलेशन में होता है तो अक्सर प्रेमी प्रेमिका के बीच छोटी मोटी बहस या नोकझोंक होती रहती है वैसे देखा जाए तो प्यार में छोटी मोटी बहस बाजी होना स्वाभाविक है.दो प्यार करने वालों के बीच लड़ाई झगड़ा खत्म करने के लिए पटना के वशीकरण विशेषज्ञ कुछ अचूक टोटके बताते है.


रूठे हुए को मनाने का अचूक टोटका,”मोहिनी माता, भूतपिता, भूत सिर वेताल। उड़ ऐं काली ‘नागिन’ को जा लाग। ऐसी जा के लाग कि ‘नागिन’ को लग जावै हमारी मुहब्बत की आग। न खड़े सुख, न लेटे सुख, न सोते सुख। सिन्दूर चढ़ाऊँ मंगलवार, कभी न छोड़े हमारा ख्याल। जब तक न देखे हमारा मुख, काया तड़प तड़प मर जाए। चलो मन्त्र, फुरो वाचा। दिखाओ रे शब्द, अपने गुरु के इल्म का तमाशा।”

विधि- मन्त्र में ‘नागिन’ शब्द के स्थान पर स्त्री का नाम जोड़े। शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा से 8 दिन पहले साधना प्रारम्भ करे।

एक शान्त एकान्त कमरे में रात्रि मे १० बजे शुद्ध वस्त्र धारण कर कम्बल के आसन पर बैठे। अपने पास जल भरा एक पात्र रखे तथा ‘दीपक’ व धूपबत्ती आदि से कमरे को सुवासित कर मन्त्र का जप करे। ‘जप के समय अपना मुँह स्त्री के रहने की स्थान / दिशा की ओर रखे। एकाग्र होकर घड़ी देखकर ठीक दो घण्टे तक जप करे। जिस समय मन्त्र का जप करे, उस समय स्त्री का स्मरण करते रहे। स्त्री का चित्र हो, तो कार्य अधिक सुगमता से होगा। साथ ही, मन्त्र को कण्ठस्थ कर जपने से ध्यान केन्द्रित होगा। इस प्रयोग में मन्त्र जप की गिनती आवश्यक नहीं है। उत्साह-पूर्वक पूर्ण संकल्प के साथ जप करे, सफलता जल्दी ही आपके कदम चूमेगी और कितनी भी कठोरदिल क्यों ना हो आपकी और खींची चली आएगी। इस एक मंत्र से आप अपने रूठे व खोये हुए प्यार को वापिस पा सकते है.

इसके अतिरिक्त अगर आप हमारे ज्योतिष से स्वयं बातचीत करना चाहते है तो आप इस नंबर पर संपर्क कर सकते है. नंबर- +91-9878895689. आप अपनी समस्या इनको मेल भी कर सकते है. इ-मेल आईडी है ptravikantshastriji@gmail.com.

Related Posts

What Ganesha Says ?

Follow Astrologer Pandit Ravi Kant Shastri